हिन्दुस्तानी एकेडेमी में जन सूचना अधिकार का सम्मान

जनसूचना अधिकारी श्री इंद्रजीत विश्वकर्मा, कोषाध्यक्ष, हिन्दुस्तानी एकेडेमी,इलाहाबाद व मुख्य कोषाधिकारी, इलाहाबाद। आवास-स्ट्रेची रोड, सिविल लाइन्स, इलाहाबाद कार्यालय-१२ डी,कमलानेहरू मार्ग, इलाहाबाद
प्रथम अपीलीय अधिकारी श्री प्रदीप कुमार्, सचिव,हिन्दुस्तानी एकेडेमी, इलाहाबाद व अपर जिलाधिकारी(नगर्), इलाहाबाद। आवास-कलेक्ट्रेट, इलाहाबाद कार्यालय-१२डी, कमलानेहरू मार्ग, इलाहाबाद
दूरभाष कार्यालय - (०५३२)- २४०७६२५

Thursday, January 29, 2009

एकेडेमी में पुस्तक-लोकार्पण और सम्मान समारोह सम्पन्न:

पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार एकेडेमी सभागार में गत २७ जनवरी को प्रदेश के उच्च शिक्षा मन्त्री डॉ. राकेश धर त्रिपाठी ने एकेडेमी द्वारा हाल ही में प्रकाशित तीन पुस्तकों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवा निवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री प्रेमशंकर गुप्त ने की।

जिन पुस्तकों का लोकार्पण किया गया उनमें एकेडेमी के सचिव डॉ. सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय द्वारा सम्पादित ‘सूर्य विमर्श’ नामक ग्रन्थ भी था जिसकी चर्चा यहाँ पूर्व में की जा चुकी है। सूर्य से सम्बन्धित प्रायः सभी आयामों को छूने वाली यह हिन्दी में लिखी गयी सम्भवतः सबसे अच्छी पुस्तक है जिसे निश्चित ही भविष्य में एक सन्दर्भ ग्रन्थ के रूप में उच्च प्रतिष्ठा प्राप्त होगी। इसके अतिरिक्त एकेडेमी द्वारा वर्ष १९३३ ई. में प्रकाशित की गयी पुस्तक ‘भारतीय चित्रकला’ का द्वितीय संस्करण (पुनर्मुद्रण) भी लोकार्पित किया गया। इस पुस्तक को तत्कालीन संयुक्त प्रान्त (यू.पी.) के एक प्रशासनिक अधिकारी श्री नानालाल चमनलाल मेहता, आई.सी.एस. द्वारा लिखा गया था। लेखक ने इस पुस्तक की रचना में मैथिली शरण गुप्त, ठाकुर दलजीत सिंह राठौर और डॉ. ताराचन्द के योगदान का विशेष उल्लेख किया है। इस विषय पर हिन्दी में लिखी गयी कदाचित्‌ यह पहली पुस्तक है जो भारतीय चित्रकला के सम्बन्ध में मौलिक जानकारी प्रदान करती है।



किन्तु जिस पुस्तक ने एकेडेमी के प्रकाशन इतिहास में एक मील का पत्थर बनकर सबको अचम्भित कर दिया है वह है डॉ. कविता वाचक्नवी द्वारा एक शोध-प्रबन्ध के रूप में अत्यन्त परीश्रम से तैयार की गयी कृति “समाज-भाषाविज्ञान; रंग-शब्दावली: निराला-काव्य”। इस सामग्री को पुस्तक का आकार देने के सम्बन्ध में एक माह पूर्व तक किसी ने कल्पना तक नहीं की थी। स्वयं लेखिका के मन में भी ऐसा विचार नहीं आया था। लेकिन एकेडेमी के सचिव ने संयोगवश इस प्रकार की दुर्लभ और अद्‌भुत सामग्री देखते ही इसके पुस्तक के रूप में प्रकाशन का प्रस्ताव रखा जिसे सकुचाते हुए ही सही इस विदुषी लेखिका द्वारा स्वीकार करना पड़ा। कदाचित्‌ संकोच इसलिए था कि दोनो का एक-दूसरे से परिचय मुश्किल से दस-पन्द्रह मिनट पहले ही हुआ था। यह नितान्त औपचारिक मुलाकात अचानक एक मिशन में बदल गयी और देखते ही देखते मात्र पन्द्रह दिनों के भीतर न सिर्फ़ बेहद आकर्षक रूप-रंग में पुस्तक का मुद्रण करा लिया गया अपितु एक गरिमापूर्ण समारोह में इसका लोकार्पण भी कर दिया गया। रंग शब्दों को लेकर हिन्दी में अपनी तरह का यह पहला शोधकार्य है। इसके साथ ही साथ महाप्राण निराला के कालजयी काव्य का रंगशब्दों के आलोक में किया गया समाज-भाषावैज्ञानिक अध्ययन भावी शोधार्थियों के लिए एक नया क्षितिज खोलता है। निश्चय ही यह पुस्तक हिदी साहित्य के अध्येताओं के लिए नयी विचारभूमि उपलब्ध कराएगी।



इस समारोह में एकेडेमी की ओर से हिन्दी, संस्कृत एवम उर्दू के दस लब्धप्रतिष्ठ विद्वानों को सम्मानित भी किया गया। यद्यपि इनमें से डॉ. दूधनाथ सिंह, डॉ. राजलक्ष्मी वर्मा, डॉ. अली अहमद फ़ातमी और श्री एम.ए.कदीर अलग-अलग व्यक्तिगत, पारिवारिक या स्वास्थ्य सम्बन्धी कारणों से उपस्थित नहीं हो सके, तथापि सभागार में उपस्थित विशाल विद्वत्‌ समाज के बीच छः विद्वानों को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए शाल, नारियल, व सरस्वती की अष्टधातु की प्रतिमा भेंट कर सम्मानित किया गया। प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किए गए। एकेडेमी द्वारा अन्य अनुपस्थित विद्वानों के निवास स्थान पर जाकर उन्हें सम्मान-भेंट व प्रमाण-पत्र प्रदान कर दिया जाएगा।
इस अवसर के कुछ यादगार क्षण हमने कैमरे में कैद किए सिर्फ़ आपके लिए-

IMG_4843सचिव द्वारा अतिथियों का स्वागत


IMG_4847लोकार्पण: समाज-भाषाविज्ञान रंग-शब्दावली: निराला काव्य


IMG_4849लोकार्पण: भारतीय चित्रकला


IMG_4862सम्मानित: प्रो. चण्डिका प्रसाद शुक्ल


IMG_4866सम्मानित: डॉ. मोहन अवस्थी


IMG_4870सम्मानित: प्रो. मृदुला त्रिपाठी


IMG_4872 सम्मानित: डॉ. विभुराम मिश्र


IMG_4881सम्मानित: डॉ. किशोरी लाल


IMG_4875सम्मानित: डॉ. कविता वाचक्नवी


IMG_4889गुरुजनों के गुरु: प्रो. चण्डिका प्रसाद शुक्ल का सम्बोधन


IMG_4904डॉ. कविता वाचक्नवी के भावुक क्षण


IMG_4917मन्त्र-मुग्ध श्रोता


IMG_4919चमत्कृत दर्शक


IMG_4926ताकि सनद रहे...!


IMG_4935एकेडेमी के कोषाध्यक्ष द्वारा आभार-ज्ञापन


पुस्तक परिचय:
समाज-भाषाविज्ञान रंग-शब्दावली : निराला-काव्य
लेखिका- डॉ. कविता वाचक्नवी
पृष्ठ-२३१ मूल्य- रु.१५०/-

भारतीय चित्रकला
लेखक- नानालाल चमनलाल मेहता, आई.सी.एस.
पृष्ठ- १४४ मूल्य- रु.१५०/-

सूर्य विमर्श
सम्पादक- डॉ. सुरेन्द्र कुमार पाण्डेय
पृष्ठ-३२४ मूल्य- रु.१७५/-

प्रकाशक:
हिन्दुस्तानी एकेडेमी
१२, कमला नेहरू मार्ग
इलाहाबाद, .प्र.
२११००१
दूरभाष- ०५३२-२६००६२५


प्रस्तुति-
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
कोषाध्यक्ष- हिन्दुस्तानी एकेडेमी

11 comments:

  1. बहुत सुंदर.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. सुन्दर! शुक्रिया इसे दिखाने-पढ़वाने के लिये!

    ReplyDelete
  3. वहां जा नहीं पाये थे, सो इस विवरण की प्रतीक्षा थी। आपको धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. बधाई और धन्यवाद इसे हमारे साथ बाँटनें के लिये

    ReplyDelete
  5. इस पूरे विवरण के लिये धन्यवाद.

    ReplyDelete
  6. कविता जी आप को और हिंदुस्तानी एकेडमी को बधाइयाँ.....एकेडमी की सक्रियता बनी रहे

    ReplyDelete
  7. चमत्कृत दर्शक ! भला क्यों ? समारोह की सफलता पर बधाई !

    ReplyDelete
  8. एकेडेमी के प्रति, पाण्डेय जी के प्रति व सिद्धार्थ जी के प्रति अतिशय आभारी तो हूँ ही; साथ ही अनूप जी,ज्ञानदतजी,अनूप भार्गव जी, हिमांशु जी, बोधिसत्व जी, व मिश्राजी!आप सभी मित्रों की बधाई के लिए भी धन्यवादी हूँ।

    हिमांशु जी, आपने पुस्तकों की खरीद के सम्बन्ध में पूछा है, आशा है कि सिद्धार्थ जी ने आप को क्रय के लिए आवश्यक पत्र का माध्यम बता दिया होगा।

    ReplyDelete
  9. इस विस्तृत रपट के लिये आभार !!

    सूर्यविमर्श का परिचय अच्छा लगा. वैज्ञानिक पुस्तकों मेरी काफी रुचि है.

    सस्नेह -- शास्त्री

    -- हर वैचारिक क्राति की नीव है लेखन, विचारों का आदानप्रदान, एवं सोचने के लिये प्रोत्साहन. हिन्दीजगत में एक सकारात्मक वैचारिक क्राति की जरूरत है.

    महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

    ReplyDelete
  10. hi, good one...thanks for the information.
    by the way when i was searching for Hindi typing tool..found "quillpad' do u use the same to type in Hindi in ur blog...?

    ReplyDelete
  11. नमस्कार ,केदार सामन के विषय में सम्पूर्ण जानकारी दें ,संग्रह भेजने का पता व उससे सम्बंधित जानकारी दें |

    ReplyDelete

हिन्दी की सेवा में यहाँ जो भी हम कर रहे हैं उसपर आपकी टिप्पणी हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा तो देती ही है, नये रास्ते भी सुझाती है। दिल खोलकर हमारा मार्गदर्शन करें... सादर!

Related Posts with Thumbnails